Dominant people had beaten had beaten to injured Dalits people (Code: BR/Ec/00/2018, Date: 12-Apr-2018 )

Back to search

Case Title

Case primary details

Case posted by NDMJ-Bihar
Case code BR/Ec/00/2018
Case year 12-Apr-2018
Type of atrocity Abuses by caste name in any place within public view
Whether the case is being followed in the court or not? Yes

Fact Finding

Fact finding date

Fact finding date Not recorded

Case Incident

Case Incident details

Case incident date 12-Apr-2018
Place Village: Not recorded
Taluka:Not recorded
District: Motihari(DP)
State: Bihar
Police station Kalyanpur
Complaint date 14-Apr-2018
FIR date 14-Apr-2018

Case brief

Case summary

पीडित एक सीधा साधा एवं न्यायप्रिय वयक्ति है उसके घर से कुछ दुरी पर सुर्य प्रसाद का जमीन है उसी जमीन पर आरोपी का नजर बहुत दिन से था परंतु सुर्य प्रसाद वह जमीन आरोपी से ना बेचकर पीडित से बेच दिया ।इसी बात से आरोपी नाराज रहकर मौके की तलाश मे रहने लगा । पीडित दबंग एवं प्रभावशाली राजनितिक पहुंच के कारण बराबर गॉव मे लोगो को परेशान करता रहता है गॉव मे आरोपी का दबदबा है जिससे चलते वे गॉव के कइ लोगो से पहले भी मारपीट कर चुका है । जब पीडित गेहुं काटने के बाद खेत की सफाइ कर जोतने की तैयारी कर रहा था तभी आरोपी अपने परिवार के अन्य सदस्यो के साथ आकर खेत की जुताइ करने से मना करने लगा तो पीडित ने कहा कि यह जमीन हमारी है हम खरीदे है यह बात आप भी जानते है ।इसका जमाबंदी मेरे नाम से चलता है । तो आरोपी ने कहा की मै इसे बंदोबस्त करा लिया हुं जमीन मत जोतो इसी बात पर कहा सुनी होने लगी हल्ला सुनकर ग्रामीण आने लगे ग्रामीणो को आते देख आरोपी उस समय तो चले गये कुछ देर बाद जब वे घर आए तो आरोपी अपने परिवार के अन्य सदस्यो के साथ दरवाजे पर आए तथा गंदी गंदी जातिसुचक गालिया देने लगे तथा विरोध करने लाठी डंडे से प्रहार कर दिये जिससे पिडित तथा इनके परिवार के कइ सदस्य घायल हो गए पीडित का सर फुट गया पीड्त को बचाने आए कइ लोग घायल हो गए तथा पीडित के पत्नी के गले से मंगल सुत्र तथा नाक से सोने की बाली भी आरोपी की पत्नी ने छीन लिया तथा महिलाओ को भी घसीट घसीट कर मारा ,ग्रामीणे के आने पर आरोपी भाग गए बाद मे ग्रामीणो के सहयोग से 4 घायलो को सदर अस्पताल लाया गया जहा उनका इलाज हुआ ।आरोपी कलवार जाति के है जो काफी सुखी संपन्न एवं उंची पहुंच रखते वेपुर्व मे सरपंच रह चुके है जिसके कारण पुरे गॉव मे अपना दबदका कायम रखना चाहते वे उनके जाति की संख्या भी अधिक है ।पीडित परिवार मेहनत मजदुरी कर अपने परिवार का जीवन यापण करता है तथा गॉव अल्पसंख्यक है ।अनुजाति का होने के कारण उसे इनके द्वारा परेशान किया जाए ताकि ये आज्ज होकर जमीन इन्हे कम दामो पर बेच देगा और गॉव के हम जमींदार है छोट जात का लोग हमारे सामने जमीन खरीदेगा तो हमारा दबदबा खत्म हो जाएगा इसी कारण घटना को अंजाम दिया गया है ।

Total Visitors : 1041853
© All rights Reserved - Atrocity Tracking and Monitoring System (ATM)