• Advance Search
  • From Date

    To Date

 Click here to sort older casesTotal records:1111
previous123456789...222223next

सिरमौर के चांदनी गाँव में अनुसूचित जाति परिवार पर हिंसक हमला ‘भूमि विवाद’ नहीं, दबंगों द्वारा खुले आम गुंडागर्दी और ज़मीन पर कब्ज़ा!

  • Posted by: Centre for Mountain Dalit Rights Himachal Pradesh
  • Date of incident: 16-09-2020
  • State:: Himachal Pradesh
  • District:: SIRMAUR(DP)
  • Police station:: Purwala
  • Chargesheet:: yes
  • Summary::

    जगिया राम पिता नैन सिंह और उनकी पत्नी संतोष देवी गांव चांदनी (डाकघर भ्रगो बनेडी, तहसील कमरऊ, जिला सिरमौर, हिमाचल प्रदेश) में अपने दोबेटों के साथ निवास करते हैं. परिवार अनुसूचित जाति  (कोली) से सम्बन्ध रखता है. अक्टूबर 2016 में जगियाराम ने अपने भाई के नाम पर एक सामान्य जाति के व्यक्ति मोहन सिंह से गांव से सतोण सड़क मार्ग पर 1 बीघा 9 बिस्वा भूमि खरीदी थी. जगिया राम के भाई की सहमति से बैंक लोन लिया और जमीन की निशान देही करवाई तभी पत्थर पर सफेदी करके उन्होंने अपनी भूमि की सीमा बाँधी थी. जगिया राम ने उस भूमि पर  JCB  के माध्यम से भूमि समतल करवाने का काम शुरू किया. उनका कहना है कि तभी से सामान्य जाति से सम्बन्ध रखने वाले एक  परिवार के अनिल कुमार,  कुलदीप, सोनसिंह, सुरिंदर, प्रकाश ने हमारी खरीदी गयी भूमि पर जबरन अपना कब्ज़ा जताना शुरू कर दिया. “जब से हमने ये भूमि खरीदी है तब से इस परिवार ने हमारे साथ लड़ाई करना शुरू किया और यह दावा किया कि  सड़क से लगती भूमि उनकी मल्कियत की ज़मीनहै” जगियारामनेबताया.

    सोमवार 16 सितम्बर 2020 समय दोपहर 11 बजे करीब अनिल कुमार, कुलदीप, सोन सिंह, सुरिंदर, प्रकाश और उनके परिवार की कुछ महिलाओं ने जगिया राम की भूमि पर कांटेदार तार-बाड़ व लोहे के खम्बे लगाने का काम लगा दिया .जागिय राम की पत्नी संतोष  ने बताया कि “जैसे ही हमें कुछ आवाजें आने लगीं तो मैं और मेरे पति मौके पर पहुंचे और यह देखा तथा उनको तार लगाने से रोका. उन्होंने उसी वक्त हिंसक तरीके से प्रातक्रिया दी और गाली गलौच कर हम पर हमला कर दिया. अनिल ने अपने साथ ली तलवार से मेरे पति पर वार करने की कोशिश की और बचाव में उन्होंने हाथ आगे किया तो वार उनकी ऊँगली पर हुआ जो कट गयी. परिवार की महिलाएं इस मार पीट में शामिल नहीं थी पर पुरुष थे और वो उनके साथ भी घुसा-लात करने लगे, उनके कपडे फाड़ दिए, उनको निजी अंगों पर कहुआ और बाल पकड़ कर घसीटने लगे”.सोमवार 16 सितम्बर 2020 समय दोपहर 11 बजे करीब अनिल कुमार, कुलदीप, सोन सिंह, सुरिंदर, प्रकाश और उनके परिवार की कुछ महिलाओं ने जगिया राम की भूमि पर कांटेदार तार-बाड़ व लोहे के खम्बे लगाने का काम लगा दिया .जागिय राम की पत्नी संतोष  ने बताया कि “जैसे ही हमें कुछ आवाजें आने लगीं तो मैं और मेरे पति मौके पर पहुंचे और यह देखा तथा उनको तार लगाने से रोका. उन्होंने उसी वक्त हिंसक तरीके से प्रातक्रिया दी और गाली गलौच कर हम पर हमला कर दिया. अनिल ने अपने साथ ली तलवार से मेरे पति पर वार करने की कोशिश की और बचाव में उन्होंने हाथ आगे किया तो वार उनकी ऊँगली पर हुआ जो कट गयी. परिवार की महिलाएं इस मार पीट में शामिल नहीं थी पर पुरुष थे और वो उनके साथ भी घुसा-लात करने लगे, उनके कपडे फाड़ दिए, उनको निजी अंगों पर कहुआ और बाल पकड़ कर घसीटने लगे”.

Downloads

Dalit youth beaten

  • Posted by: NDMJ-Haryana
  • Date of incident: 31-07-2020
  • State:: Haryana
  • District:: Sonipat(DP)
  • Police station:: Gannor

Downloads

No downloads available

Obscene Abuse and Molestetion of a SC Women

  • Posted by: NDMJ - Maharastra
  • Date of incident: 18-08-2019
  • State:: Maharashtra
  • District:: RAIGAD (HQ)
  • Police station:: Panvel Shahar
  • Summary::

    THE VICTIM AND HER TWO CHILDREN BELONG TO THE SCHEDULED CASTES. 

    THE VICTIM\'S DAUGHTER INTERMARRIED WITH A MUSLIM BOY .ACCORDING TO RITIRIVAJA, THE VICTIM\'S DAUGHTER MAHERI HAD COME FOR THR RAKSHABHANDHAN FESTIVAL AND AS HER FATHER -IN-LAW DID NOT RETURN THE SAME DAY, HER HUSBAND, HIS FRIEND AND RELATIVES QUARRELED WITH THE VICTIM AND HER TWO CHILDREN ON THE STREET OUTSIDE THE VICTIM\'S HOUSE. THEY HURLED OBSCENE FILTHY INSULTS ,BEAT HIM WITH A STICKS AND A BLANDE AND TORE THE VICTIM\'S BLOUSE , CAUSING EMBARRASSMENT.

Downloads

No downloads available

caste abused to dalit panchayat

  • Posted by: NDMJ-Haryana
  • Date of incident: 17-02-2019
  • State:: Haryana
  • District:: PANIPAT
  • Police station:: women police station
  • Chargesheet:: 28.11.2019
  • Summary::

     At approx. Five years ago victim Manprit Kour(25y) d/o Paramjit singh caste Majhabi Sikh(SC) r/o Gopal colony ward-24 did arrange marriage with accused Kamal Tehri caste Panjabi r/o Arjunnagar panipat. After some time accused Kamal, his mother Sarojbala, his father Surender Tehri tortured to victim Manprit for Dowry and others little reasons. Whenever victims family given sufficient materials to victim Manprit at the time of marriage. But all accused beaten and tortured and false allegation of theft on victim. Accused caste abused to victim“ Majhbi Chudi Kutti” many times.

    After her marriage approx.: one year went in a marriage along with accused at Panjab. Accused Sarojbala trying sexual exploitation with her nephew forcedly, but victim run away that room.

    Approx.: two years ago accused Surender Tehri put a false allegation of theft on victim Manprit kour in which police given clean chit when both side of panchayat given written statement to police accused Surender Tehri cheating in written statement that Paramjit taken rs.one lakh from him.

    Victims held 8-9 panchayat with accused family.

    On dated 17.2.2019 when Dalit Panchayat reached at accused house where accused Sarojbala insulted all panchayat that “ all Chude Chamar gathered at my Door”. After this two panchayat also held but accused insulted to victims.

    Victims given complaint to SP/DSP/ SHO Women P.S.

    Police registered a FIR No. 0100 u/s 406/488-A/506 IPC & 3 Sc/St Act 1989 on 16.5.2019 

Downloads

No downloads available

state vs Atul bhangaliya and other

  • Posted by: Centre for Mountain Dalit Rights Himachal Pradesh
  • Date of incident: 16-02-2018
  • State:: Himachal Pradesh
  • District:: KANGRA
  • Police station:: palampur
  • Summary::

    हिमाचल प्रदेश के जिला काँगड़ा में पालमपुर के पास ठाकुरद्वारा में वन विभाग द्वारा उजाड़े गये अनुसूचित जाति के ६ परिवारों को  सामान्य वर्ग के लोगों ने मंदिर में तो आसरा नहीं दिया लेकिन सरायें में भी सामान रखने से रोका  तथा मंदिर में ताला लगा दिया.

    महोदय,

    हम सब अनुसूचित जाति से सम्बन्ध रखते है और ग्राम पंचायत खलेट के रोड़ी गाँव में रह रहे है. तथा अपनी आजीविका कमा रहे है.जब वन विभाग ने हमारे आशियाने तोड़ दिए थे , तो हमें वहां पर उपस्थित बुद्धिजीवियों ने कहा कि अपना सामान शिव मंदिर में रख दो. तब सामान्य वर्ग के लोगों ने मंदिर में तो आसरा नहीं दिया लेकिन सरायें में भी सामान रखने से रोका  तथा मंदिर में ताला लगा दिया. और हमारा सामान बहार फेंक दिया. 

Downloads

No downloads available
previous123456789...222223next
Total Visitors : 2669837
© All rights Reserved - Atrocity Tracking and Monitoring System (ATM)
Website is Managed & Supported by Swadhikar