Total records:1315

Caste Abuse and Attack on Madiga Srinivas

  • Posted by: Dalit Sthree Sakthi (DSS)
  • Fact finding date: 31-03-2015
  • Date of Case Upload: 22-06-2015

Images

             

Kothagarh Rape Incident

    Banitha Boliarsingh, aged 15 years, SC Christian, daughter of Mikhael Boliarsingh and Chitka Boliar Singh, resides under Madaguda GP, Khandiaguda village, Navasahi,Kotagarh raped by 65 yr old man, Sc Christian,  belong to the same village community on 22nd December 2012 at 12 pm.


    On 22nd December 2012 as usual she had gone to take bath in a pond nearby and the accused aged around 65yrs followed her quietly. The accused is a family friend of the child’s family. The girl was all alone and that was the time he sexually assaulted her. She informed the family immediately but because of the stigma and shame they kept this incident covered until 2nd of Jan 2013.  On 2nd Jan  they filed a case against the accused. The FIR was registered on the same day. The police threatened them by saying not to reveal the matter to anyone. The family does not  want to go ahead with court cases because they are very poor. At the same time they want the man to be punished. The police had asked the family to change the statement in the beginning because they belong to the same village community. The medical examination is done at Berampur hospital and the report is with Kotagarh police. The accused was arrested immediately and he is in Balliguda sub-jail. After the arrest of the accused there is no follow up action has been taken for the welfare of the child.


    The child is under trauma. She wants to have a change of place and people, she is willing to stay somewhere else so that the memories will not taunt her.

  • Posted by: OROSA
  • Fact finding date: Not recorded
  • Date of Case Upload: 21-06-2015

Dalit Youth Sagar Shejwal Brutally Killed for Keeping Mobile Ringtone of Babasheb Song in Shirdi -Rahata Block in Ahamadnagar District

    Deceased Sagar Shejwal aged 22 years, belonging to scheduled caste was the student of nursing course at Nasik. On 15th May 2015, he came to his native place Shirdi for attending the marriage of one relative.


    On dated 16th May 2015, deceased Sagar Shejwal went to Vijay Nagar Shirdi for attending the marriage of sister of Rohit Magar along with his friend Avi and Satish @ Balu Gaikwad. At about 12 pm deceased Sagar asked Satish to go out to discuss something and deceased Sagar along with Satish and Avi went to B.M.Beer Shop on motor cycle. Avi purchased one beer and all three went back to beer shop at about 1.30 pm. Perpetrators Vishal Kote, Rupesh Wdekar, Somnath Wadekar, Sunil Jadhav,Rama Jadhav and Dipak all not belonging to SC or ST were sitting and drinking beer. Suddenly the mobile ring tone of Babasaheb song “tumhi kitihi lava shakti, tumhi kitihi ladhva yukti, tumhi kitibi kara re hall..lay majbut bhimacha killa” was ranged therefore perpetrator Vishal Kote asked the name to deceased Sagar. Asoon as he informed his name as “Sagar Shejwal” all perpetrators started beating deceased Sagar with kicks and fist, Perpetrator Vishal Kote assaulted with the beer bottle on the head of deceased Sagar. When Satish Gaikwad tried to save the deceased Sagar, perpetrator Vishal Kote threatened him and Somnath Wadekar and other three beaten him and caught hold pressing towards wall. Thereafter Vishal Kote and Rupesh Wadekar took deceased Sagar on one motorbike no. MH 12-2424 and went towards Savalivihir. Thereafter all these six perpetrators dragged him to Shingve Shivar-land of Sheti Mahamandal and made naked to deceased Sagar and brutally killed with weapons and driven the vehicle on his naked body and also robed his golden chain. 


    The FIR vide crime No. I-103/2015 is lodged with Shirdi PS on 16/05/2015 at about 5.45pm under sections 363,366, 143,147, 148, 149 of IPC. Shirdi Police got the information from Rahata Police Station around 10 pm that deceased Sagar and found his naked dead body in Shingve Shivar-land of Sheti Mahamandal. Thereafter the uncle of deceased Sagar Mr.Babasaheb Shejwal given the statement to Shirdi Police and the Shirdi Police sent the dead body for postmortem to Rahata Civil Hospital.


    Later on, as the statement was given by the uncle Babasaheb Shejwal, the atrocity sections of 3(2)(v) POA  & IPC sections 302, 395, 109, 201 were added.

  • Posted by: NDMJ - Maharastra
  • Fact finding date: 26-05-2015
  • Date of Case Upload: 12-06-2015

Images

                             

Files

1) FF Report 

Dalit beaten and by cast abuse due to land dispute

    यह घटना जिला कांगड़ा की तहसील धर्मशाला के गांव नरवाना बाज़ार योल कैंट की है. यह गांव धर्मशाला से 15 कि०मि० की दुरी सिथत है. इस गांव में उतम चन्द सपुत्र स्व: बूगर राम रहता है. जो की सुरहडा जाति से सम्बंधित है. वह घोडा गाडी व् छोटी सी सब्जी की दूकान चलाके अपना परिवार चला रहा है. इसके घर के साथ ही विपिन कुमार सपुत्र किशोरी लाल का घर है जो की जाति से ब्राहमण  है, उतम चन्द को इंदिरा आवास योजना के तहत 1976 में ज़मींन मिली थी व उसके साथ लगती ज़मींन पर 70-80 साल से काश्तकार रह रहे हैं. 10/04/15 को विपिन कुमार सपुत्र किशोरी लाल जाति ब्राहमण व उसके चाचा भुवनेश्वर ने उत्तम सिंह के घर को व खेत को जाने वाले रास्ते को डंडे ज़मींन में गाड कर बंद करना शुरू कर दिया उत्तम चन्द की पत्नी उत्तम सिंह के लिय दूकान पर खाना लेकर जा रही थी उसने यह सब देख कर उत्तम चन्द को जाके बताया जब उत्तम चन्द ने इसका विरोध किया तो विपिन कुमार सपुत्र किशोरी लाल जाति ब्राहमण व उसके चाचा भुवनेश्वर ने उत्तम चन्द के साथ धक्का मुकी शुरू कर दी व गालियाँ निकालने लगे की तुम सुरहडों को तो अकल देके छोड़ेंगे व अंदर करवाके रहंगे हमारी बड़ी ऊपर तक पहुँच है. भुवनेश्वर सिंह ने उत्तम चन्द को जोर से धक्का दिया जिस कारण व खेत की निचली और पत्थरों पर गिर गया जिसके चलते उत्तम चन्द को अंदरूनी काफी चोटें आई फिर उत्तम चन्द ने सारी घटना के बारे में पुलिस को बताया व मामला दर्ज करवाया.  

  • Posted by: NDMJ - Himachal Pradesh
  • Fact finding date: 30-04-2015
  • Date of Case Upload: 10-06-2015

Images

       

Dalit Lady beaten and by cast abuse by Rajpoots

                                   यह घटना जिला सिरमौर की तहसील नाहन के गांव महिपुर की है. यह गांव नाहन से 80 कि०मि० की दुरी पर बड़ी ही पहाडियों के बीच सिथत है. इस गांव तक जाने के लिए 60 कि०मि० तक कोई पक्की सड़क नहीं है यहाँ तक जाने के लिए नाहन से दिन में तीन बस ही जाती हैं. इस गांव में दसवी कक्षा तक स्कुल है व एक सरकारी स्वस्थ्य उपकेन्द्र भी है. इस गाव में पानी के लिए लोग ज्यादातर कुदरती तरीको पर निर्भर है. इस गांव में लोहार जाति के 4 घर, कोल्ली(हरिजन) जाति के 20 घर, डूम जाति के 40 घर, चमार जाति के18 घर, राजपूत जाति के 150 घर व पंडित जाति के 10 घर हैं.


                              इस गांव में दलित समाज में से कमल सपुत्र धनवीर उम्र 30 वर्ष रहता है. वह डूम जाति से सम्बंधित है. वह मजदूरी का काम करता है. इसके तीन बच्चे है एक बेटी और दो बेटे. इसके पास रहने के लिए सिर्फ एक छोटा सा कमरा है जिसके ऊपर टिन की चद्दर डल्ली हुई है. घर में लाईट तक की सुविधा भी नहीं है. इन्ही के साथ लगभग 150 मीटर की दुरी पर कोशल्या ठाकुर  पत्नी स्व; ठाकुर सुंदर सिंह का घर है जिसके तीन बेटे हैं सिरमौर सिंह, विनय कुमार, दर्शन सिंह. कमल ने मजबूरी की हालात में कोशल्या ठाकुर  से 1500/- उधार लिये जिसके चलते कमल कुमार ने कोशल्या ठाकुर के खेतो में मज़दूरी का काम किया, कमल कुमार की मजदूरी 8000 बनी पर उसकी मजदूरी उसे ना देकर कमल से अपने 1500/- कोशल्या के बेटे मागने लगे. 31 जनवरी 2015 को रात 11 बजे कोशल्या ठाकुर का बेटा सिरमौर सिंह कमल कुमार के घर पैसे मागने आया तब उसकी पत्नी घर में अकेली थी सिरमौर सिंह ने उसे गालियाँ निकाली व दरवाजे में जोर जोर से लात मार कर पैसे मागने लगा कमल की पत्नी जोर जोर से अपने पड़ोसियों को आवाज़ लगाईं तब व वहा से भाग गया. दुसरे दिन 1 फरवरी 2015 को कमल कुमार ने कही से पैसे इक्कठा किया और अपने दलित वार्ड मेंबर प्रेमा देवी के पास दे दिए की 1500 कोशल्या ठाकुर को दे दे.  शाम चार बजे जब प्रेमा देवी उनके घर पैसे लेकर गई तो उन्होंने कहा की हम पैसे तो कमल से या उसकी  की घरवाली सीमा से ही लेंगे प्रेमा देवी ने कमल की घरवाली सीमा को आवाज लगाईं के ये सब तुम से ही पैसे लेगे जव सीमा देवी कोशल्या ठाकुर के घर पहुची तो उन्होंने उसे पीटना शुरू कर दिया की तू साली कुत्ती डूम हमारे घर में वार्ड मेंबर भेजती है इतने में उन चारों ने कोशल्या ठाकुर, सिरमौर सिंह, विन्य कुमार व दर्शन सिंह ने सीमा देवी को बड़ी बेरहमी से डंडों व जूतों से पिटा प्रेमा देवी ने चिल्ला कर आवाज़ लगाइ तो वहा पर पूर्व प्रधान ठाकुर अर्जुन सिंह व पूर्व दलित वार्ड मेंबर लक्षमी देवी वहा पर आये उन्होंने सीमा देवी को उनके चुंगल से छुडाया. उसी दिन सीमा की हालात काफी खराब थी तो सीमा को नाहन अस्पताल में भर्ती करवाया वहा पर ही मामला दर्ज करवाया व 17 दिन तक सीमा अस्पताल में भर्ती रही.

  • Posted by: NDMJ - Himachal Pradesh
  • Fact finding date: 04-04-2015
  • Date of Case Upload: 10-06-2015

Images

     
Total Visitors : 6845270
© All rights Reserved - Atrocity Tracking and Monitoring System (ATM)
Website is Managed & Supported by Swadhikar