Total records:1316

Murder of Arjun Chaudhry

    ग्राम बलाबिघा नवादा जिला मुख्यालय से लगभग २५ किलोमीटर की दूरी पर बसा हुआ है और हिसुवा थाना से लगभग १० किलोमीटर उतर पश्चिम में है .दिनांक १ फरबरी २०१५ को ईसी गाव के अर्जुन चौधरी को इसी गांव के बिनोद यादव सहित ५ लोगो ने बुरी तरह से पीट -पीट कर हत्या कर दिया एस घटना के पीछे का कारन यह है की २०११में अर्जुन चौधरी के भाई की हत्या कर दिया गया था जिसका कांड संख्या १०३/११ है इस कांड को लेकर बिनोद यादव एवं अन्य अपराधी लोग तसविया करने के लिए दबाव दे  रहा था तस्विया नहीं करने के कारन अर्जुन चौधरी को १-२-२०१५ को पीट -पीट कर कर दिया जिसका कांड संख्या १४/१५ है जिसमे धारा ३०२ IPC and sc/ST act 3(2)(v)लगा है इस कांड के किसी भी आरोपी को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं की है जिसके कारन अपराधी लोग बराबर victim को केस उठाने की धमकी दे रहा है अर्जुन चौधरी के परिवार को सर्कार dhwara FIR NO 103/11 &14/15 में अभी तक मुआवजा नहीं दिया गया है

  • Posted by: NDMJ-Bihar
  • Fact finding date: 15-02-2015
  • Date of Case Upload: 27-02-2015


Files

1) Murder of Arjun chaudhri 

Torture with Dalit Minor Girl Una - HP

    यह घटना जिला ऊना में पड़ते गांव सनोली की है. यह गांव ऊना से 20 कि०मि० की दुरी पर स्थित है. इसी गांव के दलित जाति में से चमार जाति से सम्बधित सरजीवन लाल स्पुत्र स्व: रहता है. जिसकी उम्र 45 वर्ष की है और वह पुलिस विभाग में कार्यरत है. इसकी चार बेटीयां हैं. बड़ी बेटी का नाम सुकेता कुमारी उम्र 16 वर्ष है जो कि बारहबी कक्षा में सनोली के साथ लगते गांव बिनेवाल के स्कुल में पढ़ती है. घर से स्कुल की दुरी महज 1 कि०मी० है.


                       3/06/14 को जब वह स्कुल से छुट्टी होने पर घर को आ रही थी तो स्कुल से महज 200 मी० की दुरी पर सनोली गांव के ही जुगाविंदर सिंह सपुत्र मुख्तेयार सिंह उम्र 28 वर्ष जाति जट है ने सुकेता कुमारी को रास्ते में घेर लिया और उसकी वायूं को पकड़ लिया और अपनी तरफ खीचने लगा तभी सुकेता ने छोर मचाया ओर वह उसकी वायूं छोड़कर भाग खड़ा हुआ. सुकेता कुमारी ने उसी दिन शाम को सारी घटना के बारे में अपने पिता सरजीवन लाल को बताया जिस पर उसके पिता जी ने सनोली गांव की पंचायत व साथ लगते गांव मजारा, मलूक्पुर, बिनेवाल की पंचायतों को भी बताया.


                         05/06/14 को सभी पंचायतो ने दलित बस्ती के श्री गुरु रविदास जी के मंदिर में इक्कठ किया वह समस्त गांव वासियों के सामने जुगाविंदर सिंह वह उसके पिता को वहां बुलाया जुगाविन्दर सिंह ने अपनी गलती को सवीकार किया तब पंचायत ने उसे 100/- जुर्माना लगाया वह जुगविंदर सिंह के पिता को उसके बेटे जुगाविंदर का मुंह काला करने को कहा और सनोली गांव से बिनेबाल स्कुल तक उसे लेकर जाने को कहा. इसके बाद पचायत ने इस मामले को इसी दिन खत्म करने का हुक्कम जारी किया. 07/06/14 को गांव के ही अमरीक सिंह जाति जट ने सभी जट विरादरी को इक्कठा किया और सनोली पंचायत घर से लेकर दलित बस्ती को जाने वाली सड़क तक दलितों के खिलाफ नारे लगाते हुये मारच निकाला इस रैली में लगभग 400 जाट पुरुष व 200 महिलाए थी इसी दिन गांव में जिला ऊना से SDM किसी काम से सनोली आये हुए थे तो अमरीक सिंह ने जुगाविंदर की माता को साथ लेकर सुकेता के परिवार व पंचायत के खिलाफ जुगाविंदर का मुंह काला करने के बारे SDM  से शिकायत करी वह मोके पर ही FIR करवाई. इसी दिन रात को सरजीवन लाल ने भी अपनी और से पुलिस चौकी संतोखगढ में जुगाविंदर के खिलाफ मामला दर्ज करवाया.  

  • Posted by: NDMJ - Himachal Pradesh
  • Fact finding date: 09-06-2014
  • Date of Case Upload: 27-02-2015

Images

     

Dalit Family Beaten by Rajpoots due to land Dispute

                                 यह घटना जिला ऊना तहसील ऊना के गांव बहडाला की है. इस गांव में दलित समाज में से गुरवचन सिंह सपुत्र ईशर दास उम्र 80 वर्ष रहता है. वह चमार जाति से सम्बंधित है. गुरवचन सिंह ने हुस्न चन्द सपुत्र लक्षण चन्द जाति राजपूत से सन 1968-69 में 2000/- में 1 कनाल 15 मरले ज़मीन खरीद करी. हुस्न चन्द का भाई हरनाम सिंह भी था. ये दोनों अब इस दुनिया में नहीं है पर हरनाम सिंह के परिवार में से उसके स्व: बेटे देवराज की पत्नी सीना रानी व हरनाम सिंह के बेटे सुभाष , रमेश , संतोख सिंह, व अर्जुन सिंह ने गुरवचन सिंह के खिलाफ कोर्ट में केस कर दिया कि गुरवचन सिंह गल्त गैर मरुसी दावा कर रहा है. इस ज़मीन मर मालिकाना हक़ हमारा है क्योंकि 1961 में हमारे दादा लक्षण चन्द ने यह ज़मीन हमारे पिता हरनाम सिंह को रहनं करी थी. हरनाम सिंह के परिवार ने कोर्ट से सटे आर्डर लिया की जब तक कोर्ट का फैसला नहीं आता तब तक इस ज़मींन को कोई भी प्रयोग में नहीं लाएगा पर जिला ऊना के कोर्ट में जज साहिब ने सटे आर्डर में यह लिख दिया की जो काशतकार है वह इस ज़मींन को जोत सकता है जज साहिब के यही ब्यान गुरवचन सिंह के स्टे आर्डर पर भी आ गए जिसके कारण हरनाम सिंह का परिवार कहने लगा की इस पर हमारा मालिकाना हक़ है और हम इसके काश्तकार हैं पर दूसरी और गुरवचन सिंह इस ज़मींन को 1968-69 से जोत रहा है उसका कहना है की वह इस ज़मीन का मालिक है और वह ही काश्तकार है.


        4/07/14 को गुरवचन सिंह वह उसके परिवार वाले सुबह दस बजे हाथो से दराटीयो के साथ बीज बोने लगे क्योकि राजपूतो ने सभी ट्रेक्टर वालो को डरा धमका कर मना कर दिया था की कोई भी हमारी ज़मींन में ना आये. करीब 11 बजे सुबह गुरवचन सिंह व उसके परिवार वाले घर वापिस पहुचे तो तुरंत ही हरनाम सिंह के परिवार से सीना रानी पत्नी स्व: देवराज, चंचला देवी पत्नी सुभाष चन्द, रितु देवी सपुत्री अर्जुन सिंह, दीपक सपुत्र रमेश चन्द, सुमन देवी पत्नी रमेश चन्द, व संतोख सिंह का बेटा (नाम ना मालुम है) खेत में दो कुत्तों के साथ आये और गुरवचन सिंह व उसके परिवार वालो ने जितना भी बीज हाथ से खेत में बोया था सारा ही हरनाम सिंह के परिवार ने निकाल दिया. गुरवचन सिंह का घर खेत के पास होने के कारण उसने कुत्तों क्र भौंकने की आवाज़ सुनी तभी गुरवचन सिंह ने देखा की हरनाम सिंह के परिवार वाले उसके खेत से बीज निकाल रहे हैं तब वह अपने परिवार के साथ खेत में गया और हरनाम सिंह के परिवार वालो को ऐसा करने से मना किया जिस पर वह सभी गुरवचन सिंह के साथ हाथा पाई करने लगे दिल का मरीज़ होने के कारण गुरवचन सिंह वही खेत में बेहोश हो गया. और उसे उसी समय जिला ऊना के सरकारी अस्पताल में पहुचाया गया बाद में सीना रानी भी अपनी बेटी रजनी को लेकर अस्पताल पहुच गई की उसकी बेटी के साथ भी मारपीट हुई है जिस पर अस्पताल में ही दोनों तरफ से मामले दर्ज किये गए. 

  • Posted by: NDMJ - Himachal Pradesh
  • Fact finding date: 06-07-2014
  • Date of Case Upload: 27-02-2015

Images

     

Kidnapping and Gang Rape with a 16 year old Girl in Hissar Haryana

    Shabnam(16y) d/o  late Sh. Krishan kumar cast chamar reached at sec 16 /17  hisar for going to her uncle house from her village dabra at approx 3:30 pm on dated 9-9-12. She left the auto near by I.T.I an moving by feet to her uncle house. Yet a car reached there and two boys kidnapped to her in the car where six another boy also sitting in the car . they  went at satrod road near by canal field, where for another people also reached their. Seven accused raped to her When she soughted they pressed her mouth . another five accused monitoring the outer area .they also put a capsule her mouth forcly , after that she was got half unconscious. They also made the MMS .They thrat to her if she told to any body they will kill to her & her family.all accused are  i.e Situ s/o dharm singh , sunil,vikas s/o ram nivas, pawan, baljit,  raj kumar, mahender, anil, rajesh , suresh(all belongs to jat  community).


    She was reached at her home but due to this incident she could not eat anything and also silent when parents saw her situation they pressurized to her and asked what happened. Then she told all the incident on dated 18-9-12. Due to under pressure  and tension her father krishan kumar suicide on dated 18-9-12 Evening.

  • Posted by: NDMJ-Haryana
  • Fact finding date: 30-09-2012
  • Date of Case Upload: 24-02-2015

Heinous Physical assault of a Dalit Labourer by a dominant caste men in Hissar Haryana

    On 15th February 2012, a group of labourers from Saniana village of Fatehbad, was going on a tractor to Daulatpur village with their contractor. On the way one of the thirsty labourer, named Rajesh (25) s/o Inder Singh r/o Saniana, belonging from Chamar caste got down on the road to drink water from a water pot kept under a tree. Immediately after drinking water, a Jat youth named Pappu (35) s/o Ram Chander r/o Daulatpur came and enquired his caste. When Rajesh told that he is from Chamar community, Pappu abused with indecent caste language. Then Rajesh got scared and offered to pay for a new water pot. In spite of that, the accused Pappu brought out a “daantar” (sharp instrument) and chopped the left hand of Rajesh from the wrist and ran away. Hearing his cry, the other companions came to him and they took him to the Jain Hospital in Hissar.


     


    The Surpanch of the village Daulatpur, who is also from the same community as the accused, accompanied by 7 more persons, approached Rajesh’s family members at the hospital, that night and started pressurizing not to register FIR and offered to pay lakhs of rupees in return. However, the victim didn’t succumb and the FIR was registered the next day with No. 36, dated16.2.12, u/s 326 IPC and 3(1)(x)SCs & STs (PoA) Act. On the same day the accused was arrested.


     


     Victim Recieved Rs 50000 as a Compensation from distt. Administration

  • Posted by: NDMJ-Haryana
  • Fact finding date: 17-02-2012
  • Date of Case Upload: 24-02-2015

Images

     
Total Visitors : 6847152
© All rights Reserved - Atrocity Tracking and Monitoring System (ATM)
Website is Managed & Supported by Swadhikar