Total records:924

bsbsb

    Case details is not available
  • Posted by: NDMJ - DELHI
  • Fact finding date: 26-09-2016
  • Date of Case Upload: 11-06-2021

dndb

    hello I just saw the the murder here
  • Posted by: NDMJ - DELHI
  • Fact finding date: 24-09-2014
  • Date of Case Upload: 11-06-2021


Files

1) suicide documents 

जबरन नाले का पानी रोका व् जान से मारने की धमकियां at Abada Brana

    यह घटना जिला व् तहसील ऊना के गांव अबादा बराना के वार्ड न० 2 की है. यह गांव जिला मुख्यालय से 06 कि०मी० की दुरी पर है.  राज्य हिमाचल में जातिय व्यवस्था पर आधारित छुआछूत की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही है भारत को आज़ाद हुए 70 वर्ष के करीब हो गए है पर ऐसी घटिया मानसिकता रखने वाले लोग आज भी समाज में मौजूद है. घटना सिथित इस गांव में चमार जाति के 5 घर, बाती OBC जाति के 4 घर है. इस गांव में चमार जाति में से  कमल जीत स्पुत्र स्व: गुलजारी राम  रहता है जिसकी उम्र 41 वर्ष है. इनके दो  बच्चे है 1 लड़का और 1 लड़की है. दोनों बच्चे अभी पढ़ते है. कमलजीत अपने घर में अपने पुरे परिवार के साथ इक्कठे रहते हैं. वह अपने गावं में बने डेरे का संचालन करते है जो की बाबा छज्जू राम के नाम से  चलता है


                               यह घटना  ग्राम पंचायत अबादा  बराना के बार्ड 2 की हैं. इस गावं में रास्ते में खड़े गंदे पानी की बहुत समस्या है. इस गावं में  वार्ड न० 2  व् 3 के घर जो की 40 -45 की संख्या में है उन घरों का सारा गंदा पानी  जिस नाले में जाता है उस नाले को गांव के ही ग्रामीणों ने बंद कर दिया है और मुख्य नाले में पानी लेने से इन्कार किया है नाले में पानी बुरी तरह से रुक गया है जिस कारण रास्ते में पानी जमा हो गया है व रास्ते से आना जाना दुश्वार हो गया है व नाले में गंदा पानी जमा होने कारण बहुत बदबू फ़ैल गई है जिस कारण भयानक बीमारियों का खतरा बना हुआ है. इस नाले के गंदे पानी का सारा बहाव कमलजीत के घर के सामने इक्कठा हो जाता है जिस कारण गंदे पानी से बदबू और मच्छर आदि पैदा हो रहे  है. वार्ड न० 2 के निवासियों को इस गंदे पानी से भरे हुए रास्ते से आने – जाने में बहुत कठिनाई आ रही है. इस घटना बारे कई बार पंचायत प्रधान को बोला गया लेकिन पूरी पंचायत इस मामले को नज़रंदाज़ करती रहती है और जब ग्राम पंचायत अबादा बराना की प्रधान को 7.03.21 को लिखित तौर पर प्रार्थना पत्र दिया गया तो प्रधान ने यह कहा की अगर गांव के कुछ लोग बोलंगे तो मैं पानी खुलवा दूंगी अन्यथा मैं इसमें कुछ नहीं कर सकती. पंचायत ने मुख्य नाले की सफाई जेसीबी लगवा कर करवा दी है पर जिस नाले के पानी को बंद किया गया है उसे नहीं खुलवाया है और उस नाले का सारा गंदा पानी कमलजीत के घर के सामने रुक जाता है. हर साल पंचायत उस नाले को साफ करवाती है लेकिन कमलजीत के घर के सामने से उस नाले को साफ़ नही करवाती है. सड़क में मुख्य नाले को बंद कर देते है और सारे घरों का गंदा पानी मुख्य रास्ते में आकर रुक जाता है. पिछले साल पंचायत ने उस नाले के ऊपर सरकारी डंगा बनवाया  और बाती OBC जाति के लोग ओम प्रकाश, रामस्वरूप, सतनाम वार्ड न० 3 के पंच मोहन लाल ने जबरदस्ती उस सरकारी डंगे के ऊपर अपने शोचालय बनवा लिये. जिस कारण शोचालयों का गंदा पानी भी रास्ते में आकर रुक जाता हैं. ओम प्रकाश ,सतनाम, रामस्वरूप ये तीनों भाई और वार्ड न० 3 का पंच मोहन लाल इस नाले को खुलने नही देते है. जिस कारण शोचालयों का गंदा पानी भी रास्ते में आकर रुक जाता हैं. 

  • Posted by: NDMJ - Himachal Pradesh
  • Fact finding date: 06-06-2021
  • Date of Case Upload: 09-06-2021

Images

         

दलित परिवार के घर के रास्ते को जबरन बंद कर देंना at bral

    यह घटना जिला ऊना की तहसील बंगाणा के गांव बराल की है. यह गांव ऊना मुख्यालय से 40 कि०मी० की दुरी पर है. राज्य हिमाचल में जातिय व्यवस्था पर आधारित छुआछूत की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही है भारत को आज़ाद हुए 70 वर्ष के करीब हो गए है पर ऐसी घटिया मानसिकता रखने वाले लोग आज भी समाज में मौजूद है. घटना सिथित इस गांव में चमार जाति के 120  घर, कबीर पंथी जाति के 5  घर, वाती(OBC) जाति के 4  घर, राजपूत  जाति के 100  घर, शिम्बा जाति के 2 घर , दोले जाति के 4 घर  है. इस गावं में पीने  के  पानी की बहुत  समस्या  है. इस बराल गांव के वार्ड नंबर 2  में दलित बस्ती के 70 के करीब आबादी में घर है. दलित बस्ती में उतम चन्द स्पुत्र जेंड राम की जमीन पर करीब 21 वर्ष पहले सरकारी हैंडपंप लगाया गया व दलित बस्ती को पीने का पानी मुहिया करवाया गया. लगभग 4 वर्ष पहले दलित बस्ती से करीब 800 मीटर दुरी पर राजपूत जाति के घर हैं उन परिवार वालो ने कुछ दलित परिवारों से मिलकर कर हैंडपंप के बोर में मोटर लगवा दी और हैंडपंप का हैंडल हटवा दिया व बिजली का मीटर दलित बस्ती में से ही दलीप चन्द स्पुत्र शंगन्णीया राम के नाम पर लगवा दिया. राजपूत जाति में से जगजीत सिंह स्पुत्र राजेश कुमार हर महीने दलित बस्ती के 70 घरों से पचास रूपये के हिसाब से बिल के नाम पर पैसे लेता रहा और आज दिन तक बिल का कोई हिसाब ना दिया है इसके इलावा हर थोड़े दिनों बाद मोटर खराव हो जाती रही है जिसको की सिर्फ दलित बस्ती के लोग ही अपने पास से पैसा इक्कठा कर ठीक करवाते रहे है पिछले महोने जब मोटर खराब हुई तो दलित बस्ती में से प्यार चन्द  और उनकी पत्नी शकुंलता देवी जो की गावं की सरपंच है और गावं  के लोगों ने फैसला लिया अब हम मोटर ठीक नहीं करवायंगे और हैंडपंप के बोर को हैंडल लगवा लेंगे क्योंकि राजपूत बस्ती के लोग बिना वजह ही अपने घरों को मोटर से पानी छोड़ रखते थे जिसकी वजह से साथ लगते सभी कुओं का पानी भी सुख गया है जब दलित समाज ने कहा की हैन्डपम्प को सभी हैंडल लगा कर पानी भरो इस कारण राजपूत घरों के नुमाइंदो ने दलित बस्ती को जाने वाले रास्ते को जबरन बाड लगा कर बंद कर दिया और गाली गलोच करना शुरू कर दिया  राजपूत जाति में से जगजीत सिंह स्पुत्र० राजेश कुमार  दलित समाज की ओरतों को कहता है की अपने पेशाब से खाना बनाओ और उसी को पीयो. जगजीत सिंह ने कहा की मैं इस रास्ते  में मक्की की फसल बीजुंगा और दलित समाज के लोगों  को इस रास्ते से आने – जाने नही दूंगा. अब ना तो दलित बस्ती के लोग कही आ जा सकते है और न ही राजपूत समाज के लोग हैंडपंप को हैंडल लगने दे रहे है, बिना पानी के दलित बस्ती की हालत बहुत ही दयनीय हो गई हैहमारा साशन प्रशासन से अनुरोध है की शीघ्र अति शीघ्र बंद रस्ते को खुलवाया जाए व हैंडपंप पर हैंडल लगा कर दलित बस्ती को पानी उपलब्ध करवाया जाए.

  • Posted by: NDMJ - Himachal Pradesh
  • Fact finding date: 04-06-2021
  • Date of Case Upload: 09-06-2021

Images

         

fgfcjlka

    Case details is not available
  • Posted by: NDMJ - DELHI
  • Fact finding date: Not recorded
  • Date of Case Upload: 09-06-2021

Total Visitors : 2669829
© All rights Reserved - Atrocity Tracking and Monitoring System (ATM)
Website is Managed & Supported by Swadhikar