Total records:1156

Rape and attempt to murder a Dalit minor girl

    पीड़िता संयोगिता उम्र 14 वर्ष, भोपाल में हास्टल में रह कर कक्षा 9 में अध्ययन करती है, जो कि शीतकालीन छुटटी और कोरोना की वजह से अपने घर सीताकामथ, ब्लाक घोड़ाडोंगरी, जिला बैतूल आई हुई थी। 18 जनवरी 2021 की शाम ठंड का मौसम था वह ्अपने खेत में लगी गेंहू की फसल को दिये जा रहे पानी की मोटर बंद करने गई थी। तभी पास के लगे हुए खेत का मालिक सुशील वर्मा उम्र 46 वर्ष जो कि परिचनत था उसे अपने पास बुलाया और बलात्कार किया, बालिका के विरोद करने पर मारपीट की। उसके बेहोश हो जाने पर  नाले के पास पड़े बड़े बड़े पत्थरों के नीचे दबा दिया। काफी देर तक संयोगिता के घर लौट कर ना आने पर उसकी बहन वसुंधरा, दादा लोग ढूंढने खेत गये जहां पर गेेंहू की फसल में संयोगिता के कपड़े मिले. पुकारे जाने पर  संयोगिता के कराहने की आवाज पत्थरों के नीचे से आई.  उसे निकाल कर वे सभी घोड़ाडोंगरी के स्वास्थ्य केंद्र ले गये, जहां रास्ते में होश आने पर संयोगिता ने अपने साथ हुए घटनाक्रम के आरोपी सुशील वर्मा का नाम बताया। घोड़ाडोंगरी से थाना सारनी फोन कर पुलिस को अवगत कराया। आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया।


    पीड़िता संयोगिता की गंभीर अंदरुनी चोटों की वजह से एम्स भोपाल में भर्ती किया गया। आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के लिये सड़कों पर जनआंदोलन हुए। मानव अधिकार संगठनों ने संज्ञान लिया। आरोपी राजनितिक पार्टी से जुड़ा होने की वजह से पीड़ितों को डराया धमकाया भी गया। 


    वर्तमान में न्याायलय का फैसला आ चुका है जिसमें आरोपी को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है, वहीं सजा के खिलाफ आरोपी ने उपरी अदालत में अर्जी दाखील की है। 

  • Posted by: NDMJ
  • Fact finding date: 01-04-2021
  • Date of Case Upload: 18-09-2022

Images

             

A Dalit family Vedhapuri and his wife Indira was brutally attacked and denigrated with their caste names by the vanniyar community then they attempted to kill vedhapuri by pouring pesticides in his mouth and sexually harrassed his wife

    Vedhapuri & his wife Indra who belongs to Adidravidar Community looking after the Goat Farm for around 11 years for a monthly salary, the farm which is owned by Ramesh who is living in abroad and he belongs to a Naidu Community. Vedhapuri and Indra had a friendly relationship with the Ayyapan and Sivagami Family who is residing nearby for around 15 yrs and belongs to vanniyar community. Vedhapuri had given some 50,000/- to a person called Dharani through Sivagami. After that, Vedhapuri asked sivagami to get 50,000/- loan to him for his son marriage expenses. Vedhapuri was paying the loan amount monthly but due to his family financial crisis he couldn’t pay for 2 months and when sivagami asked back the loan amount to Vedhapuri, he asked her to get amount from Dharani which he gave her through sivagami earlier. Sivagami asked about this to dharani to give back the money gave by vedhapuri. But dharani denied that she got money from vedhapuri and both dharani and sivagami went in to arugument.


    After this, On 14.07.2022, Sivagami and his son Ardhal, along with Ajith, Murugan, Annamalai came to the vedhapuri’s house when vedhapuri was not in home and they were asked money to vedhapuri’s wife and scolded and fought with her. On 15.07.2022, around 6.00 PM Kannan (F/O Ramasamy), Ajith (F/O Ramasamy) from Aarasur village and Ayyappan (F/O Subburayan), Sivagami (H/O Ayyappan), Ardhal (F/O Ayyappan, Murugan (F/O subbrayaan) , Annamalai (F/O Subbrayan), Anitha (F/O Velu) who all belongs to vanniyar community came to vedhapuri’s house and asked the money back. When vedhapuri replied to him that to get that money from Dharani which gave by him through sivagami. Immediately Ajith beaten vedhapuri with stick and spoken abusive words along with their caste names and threatened him that they are going to kill him. When Vedhapuri’s wife came in between them to save vedhapuri from their attack. Then they removed the Indra’s saree and tored her blouse and sexually harassed her in front his husband itself. Then they brutally attacked them and poured Domaicron pesticides on vedhapuri’s mouth to kill him. Then somehow, they both escaped from them and meanwhile Ramalingam, Gopal, Kannan, Manikandan who were working in nearby agriculture land saw this and came to the incident place and saved vedhapuri and his wife Indira from them. They both were severely injured.


    At that night they couldn’t go to the hospital since the people who attacked them were roaming outside to attack them again. So, Vedhapuri did phone call to 100 and also for ambulance but nobody came. Then the next day morning 16.07.2022 at 7.00am got treatment as an outpatient and then they went to Thellar Police Station at 10AM and gave a complaint. But the police told them to go now and come when they call.


    On 17.07.2022 around 6pm vedhapuri and his wife Indhira went to police station after they called. But they both made to wait for long time and sent back again by saying that the Police Inspector went out for an emergency work. So, when they came out Annamalai F/O Subbarayan who were one among the group attacked them that day, he met both and spoke abusive words on his wife and went to beat them, then immediately when vedhapuri’s wife scared and shouted he ran away from that place. Then from there when they were on the way to their house nearby Kamaraj nagar pillaiyar kovil street Annamalai, Magesh, Kannan stopped vedhapuri and his wife Indira, then Magesh who abusively scolded and used derogatory words on them and Kannan with the blade scratched on both of them near their chests they got severely injured.


    On 18.07.2022, Vedhapuri’ s wife gave a complaint in Thellar Police Station from her side for sexually harassing her. The Police Inspector Sonia and CBCID Uthhaman forced Indhira to not include the words in complaint which about abusive words along with caste names that spoke by the perpetrators. Also, CBCID uthhaman threatened them to withdraw the case.


     Thereafter, only on 25.07.2022 police filed the case under SC/ST Act on vedhapuri’s complaint but not on her wife Indira complaint. And there was no further action taken place, the accused were not arrested even after filed under SC/ST Act. Vedhapuri and his wife Indira met SP and reported about this, and he immediately urged DSP to conduct enquiry and for further action. Therefore, DSP came to the incident spot and made an enquiry, while enquiring vedhapuri and his wife, he was totally speaking in supportive manner of perpetrators and also verbally abused the victims both vedhapuri and his wife by saying “Am I your home servant? To come here immediately after you gave complaint?” then while vedhapuri and his wife explaining about the incident that “they were been brutally attacked and removed Indira’s saree and sexually abused, and with the blade perpetrators scratched on their chests, they said, then after hearing this, the DSP threatened Indira that “first you need to arrested, and he asked her to remove her dress and show where they got hurt.”


     More than 52 days gone, after filing under SC/ST act on accused but so far, no arrest made and there was no steps taken on Indira’s complaint on Sexual Harrasment. Therefore, we recommend to file case on DSP, CBCID Uthhaman, Police Inspector under SC/ST Act since they were all supportive to make this case to be closed soon and involved to save the perpetrators. Also, the perpetrators should be arrested immediately and lodged in jail until the case investigation complete. Additionally, the steps need to take immediately on Indira’s complaint on Sexual Harrasment. Under SC/ST Act, Justice, Protection and Rehabilitation should be provided to the victims without delay.

  • Posted by: Social Awareness Society for Youths-SASY
  • Fact finding date: 14-09-2022
  • Date of Case Upload: 17-09-2022

Kidnap and murder with Dalit youth.

    मृतक नितिन पिता मानकराम कोगे झुम्मरखाली स्थित मामा का ढाबा में वेटर का काम करता था। वहां पहले कुछ लोगों द्वारा खाने पीने के लेकर मारपीट हुई थी जिसमें नितिन को भी आरोपी बनाया गया था जिसकी 22 फरवरी 2022 को हरसूद सत्र न्यायालय में पेशी के लिये गया था। दोपहर दो बजे नितिन की मां के पास गणेश नाम के व्यक्ति का फोन आया जिसने नितिन के बारे में पूछताछ की। तब नितिन की मां देवकाबाई ने नितिन को फोन लगाया तो नितिन ने खुद को न्यायालय हरसूद में बैठे होने की बात बताई और कहा कि वो शाम को नानी के पास बरुड़ जायेगा। उसने अपनी नानी को फोन कर रात में खाना खाने की बात की और बताया कि ये ढाबे वाले लड़के मुझे परेशान कर रहे हैं, इनसे पीछा छुड़ा कर जल्दी आता हूं। इस बीच नितिन की मां ने फोन लगाया तो फोन स्वीच आफ आने लगा। घटना के दिन ही रात 8 बजे के लगभग भूरु उर्फ दिनेश का फोन नितिन की मां  के पास आया जिसमें उसने नितिन के बारे में पूछताछ की और फिर बताया कि शाम 7 बजे नितिन ने उसे फोन कर बताया था कि टुनमुन पिता नारायण और कालू निवासी रहटगांव ने उसका अपहरण कर लिया है। रात में नितिन के पिता और मां आकाश जयसवाल के ढाबे झुम्मरखाली पर खोजते हुए पहुंचे तो गणेश ने बताया कि नितिन के सिर में चोट थी और टुनमुन उसे लेकर घूम रहा था। उसके बाद से नितिन का कुछ पता नहीं चला। दिनांक 22 फरवरी 2022 को नामजद लिखित शिकायत अजाक थाने में दी गई जिस पर गुमशुदा की रिपोर्ट दर्ज की गई। मार्च 2022 के प्रथम सप्ताह में पुलिस द्वारा नितिन के परिजनों को सूचना दी गई कि- खोजबीन में यह पाया गया कि कालीघोड़ी के जंगल में नितिन कोगे की हत्या कर लाश को जला दिया गया है, जिसके कुछ विडियो नामजद आरोपियों के मोबाइल से बरामद किये गये है। मृतक नितिन की कुछ हड्डियां बरामद हुई है उनका डीएनए टेस्ट रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है, वहीं मुख्य आरोपी अभी भी गिरफ्त से दूर है। ऐसे में परिजनों को जान का खतरा बना हुआ है।

  • Posted by: NDMJ
  • Fact finding date: 30-08-2022
  • Date of Case Upload: 16-09-2022

Images

                         

Tribal woman's death due to wrong treatment and Surgery.

    मृतका सुमित्रा पति स्व. अखिलेश भील 19 जुलाई 2022 को पेट में दर्द होने की वजह से सोनी अस्पताल जिला खंडवा में इलाज के लिये आई थी. जहां पर वह पहले भी इलाज के लिये आ चुकी थी। सोनी अस्पताल खंडवा में सोनोग्राफी और कुछ जांचे कर के उसे छोटा सा आपरेशन कर ठीक हो जाने का भरोसा अस्पताल प्रबंधन ने दिलाया। और 20 हजार रुपये जमा कराने को कहा. जिस पर परिजनों ने रुपये का इंतजाम कर इलाज के लिये कागजों पर साइन कर दिये। दूसरे दिन 20 जुलाई 2022 की रात को सुमित्रा का सर्जरी किया गया। जिसके बाद सुमित्रा की हालत बिगड़ने लगी तो 21 जुलाई 2022 को अस्पताल प्रबंधन ने किसी दूसरे डाक्टर से कंसल्ट कर दूसरा आपरेशन किया। जिसके लिये 50 हजार रुपये मांगे, जिसका इंतजाम तुरंत में परिजनों ने खेत गिरवी रख कर किया।  दूसरे आपरेशन के बाद से सुमित्रा की हालत और बिगड़ती चली गई।


    स्थिति में सुधार ना होने पर अस्पताल प्रबंधन ने हाथ खड़े कर दिये, तब परिजनों मोघट थाना पहुंच कर शिकायत की, जिस पर पुलिस प्रशासन ने चिकित्सा विभाग और कलेक्टरेट को सूचित किया. दोनों विभागों के अधिकारी आकर सोनी अस्पताल का मुआयना किये और इलाज के लिये कहा। परिजनों ने सुमित्रा की जान बचाने के लिये अच्छे अस्पताल में इलाज करवाने का डाक्टर रेणु सोनी, सोनी अस्पताल प्रबंधन द्वारा आस्वासन दिये जाने पर एफआईआर दर्ज नहीं करवाई और 3 जुलाई 2022 को मरीज को लेकर बाम्बे हास्पिटल इंदौर गये। जहां पर एक और आपरेशन किया गया, लेकिन सुमित्रा की जान नहीं बची और 5 जुलाई 2022 को मृत्यु हो गई। सुमित्रा की डेडबाडी लेकर परिजन अपने गांव हीरापुर पहुंचे ही थे कि मोघट थाना से फोन आने पर खंडवा ले जाकर मृतका का शव परिक्षण कराया।


         कुछ दिनों बाद सोनी अस्पताल प्रबंधन द्वारा समझौता कर लेने के लिये सुमित्रा के परिजनो को फोन कर कुछ रुपये लेने के लिये कहा गया। थाना मोघट द्वारा भी बयान दर्ज कराने के लिये बुलाया गया। जब वे लोग मोघट थाना में सोनी अस्पताल के द्वारा गलत इलाज करने की रिपोर्ट लिखाने पहुंचे तो थाने में रिपोर्ट नहीं लिखी गई।


    मृतका सुमित्रा के पति अखिलेश की 11 जून 2022 को आकाशीय बिजली गिरने से मौत हो चुकी है, इस प्राकृतिक आपदा में तीन लोगों की मौत हुई थी। प्राकृतिक आपदा में मौत होने का 4 लाख रुपये की राहत राशी मृतका सुमित्रा को प्राप्त हुई थी। सुमित्रा और अखिलेश के दो बच्चे हैं, आशीष 4 वर्ष, आंचल 2 वर्ष की। इन दोनों बच्चों के माता – पिता और दादा का साया नही है, अब दादी प्रमिला बाई है जो मासूमों की देखभाल कर रही है।

  • Posted by: NDMJ
  • Fact finding date: 28-08-2022
  • Date of Case Upload: 16-09-2022

Images

                   

Kidnapping, murderous attack with Dalit youths

    दिनांक 23 अगस्त 2022 को शाम 7 बजे के लगभग राकेश और उसका चाचा रमेश अपनी अपनी बाइक से इंदौर जाने के लिये गांव मिटावल से निकले थे। रास्ते में सिल्टिया पेट्रोल पंप (तिलक पगारे का पेट्रोल पंप) के पास सूरज तंवर, आकाश तंवर पिता मोहन तंवर, शुभम पिता मुकेश तंवर ने चलती बाईक पर पाइप से हमला कर दिया जिससे वे दोनों गिर गये। तभी वहां पर 10-15 लोगों ने उन्हे घेर लिया और जातीसूचक गालियां देते हुए मारपीट करने लगे। वे सभी राकेश के छोटे भाई सतीष ओसवाल (जिसने तंवर परिवार की लड़की के साथ जुलाई 2022 में प्रेम विवाह कर लिया था) के बारे में पूछते हुए मारपीट करने लगे। मोहन तंवर ने रमेश के सर पर लाठी या राड से हमला कर दिया जिससे वह बेहोश हो गये। एक बाईक को उन्होने वहीं तोड़ फोड़ कर खराब कर दिया और  दोनों को वे लोग बाइक पर अर्ध बेहोशी की हालत में लगभग 8-9 किलोमीटर दूर निहालवाड़ी ले गये। बारिश का मौसम था और वहां पर पाइप, लात, घूंसों से बेहोस होते तक पिटाई की। दोनों के पर्स मोबाइल लूट कर उन्हे मरा समझ कर छोड़ कर चले गये।


    9 बजे के लगभग रमेश को होश आने पर राकेश के सात किसी तरह बाइक से पंधाना थाना पहुंचे और उनके साथ हुई घटना बताई, जिस पर पुलिस वालों ने प्राथमिक चिकित्सा के लिये पंधाना चिकित्सालय में भेज दिया। 24 अगस्त की रात पौने दो बजे रिपोर्ट दर्ज की। दोनों की हालत गंभीर होने के बावजूद उन्हे जिला चिकित्सालय में रेफर नहीं किया, तब दोनों के परिजनों ने अपने खर्चे पर गाड़ी कर जिला चिकित्सालय खंडवा में भर्ती कराया, जहां पर दोनों का इलाज चल रहा है। पुीलिस ने अभी तक किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया है।

  • Posted by: NDMJ
  • Fact finding date: 26-08-2022
  • Date of Case Upload: 16-09-2022

Images

                         
Total Visitors : 3646448
© All rights Reserved - Atrocity Tracking and Monitoring System (ATM)
Website is Managed & Supported by Swadhikar